Goa Assembly Election 2022 Ahead Of Results Congress Scared Of Burglary In Goa Shifting Leaders In Rajasthan And Kolhapur Ann

उत्तर प्रदेश समेत सभी पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव संपन्न हो चुके हैं. अब सभी की नजरें 10 मार्च पर हैं, जब नतीजों का ऐलान किया जाएगा. लेकिन उससे पहले गोवा में सियासी हलचल देखने को मिल रही है. सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस के उम्मीदवारों को साथ रखने की जिम्मेदारी महाराष्ट्र के गृहराज्य मंत्री और कांग्रेस नेता सतेज पाटिल को सौंपी गई है. कांग्रेस को डर है कि कहीं कोई अन्य पार्टी उसके नेताओं को तोड़कर अपनी पार्टी में न मिला ले. बताया जा रहा है कि कांग्रेस के उम्मीदवारों को साथ रखने के लिए कोल्हापुर या राजस्थान में शिफ्ट किया जा सकता है. 

पिछली बार विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस के कई विधायकों ने बीजेपी का दामन थाम लिया था. सबसे बड़ी पार्टी बनने के बाद भी कांग्रेस गोवा में सरकार नहीं बना पाई थी. इसलिए इस बार हर कदम फूंक-फूंक कर चल रही है. एग्जिट पोल्स में गोवा में त्रिशंकु विधानसभा नजर आ रही है.

एग्जिट पोल के नतीजों में गोवा का क्या है हाल 

(एबीपी न्यूज़-सी वोटर के मुताबिक)

कुल सीटें- 40

बीजेपी-   13-17 

कांग्रेस-   12-16

AAP-   1-5

TMC-   5-9

अन्य-    0-2

फिलहाल गोवा में बीजेपी बहुमत से दूर जरूर दिखाई दे रही है लेकिन मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत दोबारा सत्ता की कुर्सी पर बैठने के सपने को साकार होते देख रहे हैं. प्रमोद सावंत को भरोसा है कि प्रदेश में बीजेपी की ही सरकार बनेगी. गौरतलब है कि इस चुनाव में कांग्रेस ने गोवा फॉरवर्ड पार्टी (GFP) के साथ गठबंधन किया था. जबकि तृणमूल कांग्रेस (TMC) ने महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (MGP) के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था. 

दरअसल 2017 के चुनाव में कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनने के बावजूद सरकार नहीं बना पाई थी. उसे 17 सीटों पर जीत मिली थी, जबकि 13 सीटों पर जीत हासिल करने वाली बीजेपी ने एमजीपी, गोवा फॉरवर्ड पार्टी और तीन निर्दलीय विधायकों के समर्थन से सत्ता हासिल कर ली थी. इस चुनाव में उस वक्त आम आदमी पार्टी का खाता नहीं खुला था, जबकि एमजीपी 3 और अन्य पार्टियों ने 7 सीटों पर जीत हासिल की थी.

ये भी पढ़ें- Exit Polls कहते हैं- यूपी में आएंगे तो योगी ही, पंजाब में AAP की सरकार, जानें पांचों राज्यों का पूरा विश्लेषण

5 राज्यों में एग्जिट पोल के नतीजे सही या गलत? जानें राजनीतिक दलों के नेताओं का क्या है कहना

Leave a Comment

Your email address will not be published.