Ukraine-Russia War: पत्नी के कारण यूक्रेन में फंसे इस भारतीय ने देश लौटने से किया इनकार, जानें पूरा मामला

नई दिल्ली: यूक्रेन में रूस के हमले (Ukraine-Russia War) के बाद से लाखों लोग हताहत हुए हैं और जान बचाने के लिए दूसरे देशों की ओर रूख कर रहे हैं. यूक्रेन में फंसे भारतीय नागरिकों (Indian Citizens) को वतन वापस लाने के लिए भारत सरकार ऑपरेशन गंगा (Operation Ganga)  चला रही है. लेकिन एक भारतीय नागरिक ने भारत लौटने से इनकार कर दिया है. क्योंकि उसकी पत्नी गर्भवती है और भारत की नागरिक नहीं है इसलिए उसे भारत नहीं लाया जा सकता है.

यूक्रेन की राजधानी कीव में हुई हिंसा के बाद सुरक्षित स्थान पर पहुंचे गगन ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि, वह अपने परिवार और 8 महीने की गर्भवती पत्नी को यूक्रेन में नहीं छोड़ सकता है. इसलिए हम पोलैंड जा रहे हैं. फिलहाल हम लविव में एक दोस्त के घर पर हैं.

यूक्रेन पर रूस के हमले के दो दिन बाद 26 फरवरी को भारत सरकार ने ऑपरेशन गंगा चलाया था. क्योंकि यूक्रेन की सरकार ने नागरिक फ्लाइट्स के लिए अपने एयरस्पेस को बंद कर दिया था. जिसके कारण भारतीय लोगों को पोलैंड, रोमानिया, स्लोवाकिया, हंगरी और मोल्दोवा जैसे पड़ोसी देशों तक पहुंचने के लिए पैदल चलने को मजबूर होना पड़ा था. ताकि वहां से फ्लाइट्स के जरिए भारत पहुंचा जा सके.

Exclusive: रूस के रवैये पर भारत चुप क्यों? पश्चिमी देशों ने उठाए सवाल, जानें भारत की कूटनीतिक मंशा

इसके लिए यूक्रेन के पड़ोसी देशों में स्थित भारतीय दूतावासों ने युद्धग्रस्त इलाकों से नागरिकों को निकालने के लिए यूक्रेन सीमा पर चौकियां स्थापित की हैं और एयर इंडिया और इंडियन एयरफोर्स की फ्लाइट्स के जरिए उन्हें भारत वापस लाया जा रहा है. ऑपरेशन गंगा के लिए केंद्र सरकार के 4 मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, हरदीप सिंह पुरी, वी के सिंह और किरेन रिजिजू स्वयं युद्ध प्रभावित क्षेत्रों में
पहुंचे हुए हैं.

भारतीय विदेश मंत्रालय ने बताया कि, अब तक 76 स्पेशल फ्लाइट्स के जरिए यू्क्रेन में फंसे 15,920 नागरिकों को भारत लाया जा चुका है. शनिवार और रविवार को 13 फ्लाइट्स नई दिल्ली और मुंबई पहुंची. इनमें करीब ढाई हजार लोगों को वापस लाया गया.

Tags: Indian Evacuated, Russia, Ukraine

Leave a Comment

Your email address will not be published.