गुजरात में क्या है आज कोरोना की स्थिति, 3 फरवरी से 4 मार्च तक क्या हैं मौत के आंकड़े?

Gujarat Corona Update: गुजरात में पिछले 24 घंटे में सिर्फ 96 दैनिक कोविड मामले दर्ज किए गए. अच्छी बात यह है कि गुजरात में 69 दिनों के बाद दैनिक टैली 100 से नीचे जा रहा है. अगर मौतों की बात करें तो राज्य में 52 दिनों के बाद शून्य मौत दर्ज़ की गई. अहमदाबाद को छोड़कर, अन्य सभी शहरों और जिलों में दैनिक मामले 10 से नीचे दर्ज किए गए.

3 फरवरी से 4 मार्च तक यह रही स्थिति

लगभग 22.3 लाख की अनुमानित आबादी वाला वड़ोदरा, अहमदाबाद की तुलना में लगभग 3.5 गुना कम है लेकिन जब कोविड मृत्यु दर की बात आती है, तो पिछले 30 दिनों में, वड़ोदरा शहर में अहमदाबाद और सूरत दोनों की तुलना में अधिक मौतें दर्ज की गईं. 3 फरवरी से 4 मार्च तक, राज्य की 389 मौतों में से लगभग वडोदरा में 87 मौतें दर्ज की गईं जो अहमदाबाद की 79 कोविड  मृत्यु दर की तुलना में  22% थी. इस प्रकार, अहमदाबाद के 0.5% की तुलना में वडोदरा की कोविड मृत्यु दर 1.2% थी.

Gujarat HC: माफी मांगने के बाद वकील के खिलाफ अवमानना मामला किया बंद, पढ़ें पूरी खबर

स्वास्थ्य अधिकारीयों का यह कहना

वडोदरा नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी डॉ देवेश पटेल के मुताबिक मौतों की रिपोर्टिंग तब हुई जब डेथ ऑडिट रिपोर्ट मिली. इससे मृत्यु के वास्तविक दिन की तुलना में रिपोर्टिंग में देरी होती है. अहमदाबाद नगर निगम के सूत्रों ने यह भी दावा किया कि दूसरी लहर की तुलना में, तीसरी लहर में मौतों की रिपोर्टिंग अधिक उदार थी.

मनोज अग्रवाल, एसीएस (स्वास्थ्य) के मुताबिक राज्य कॉमरेड और वरिष्ठ नागरिक रोगियों सहित सभी कोविड मौतों की गिनती कर रहा है. शहरों के बीच कोई विसंगति नहीं है. हां, यह सच हो सकता है कि वडोदरा में अहमदाबाद की तुलना में अधिक मौतें दर्ज की गई हैं. लेकिन कारक शहरों का जलग्रहण क्षेत्र हो सकता है.

Gujarat News: गुजरात में दो साल में 600 करोड़ रुपये से अधिक की शराब और ड्रग्स जब्त की गई, पढ़ें डिटेल

 

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.