UPI transactions worth Rs 8.27 lakh crore in February: NPCI pmgkp

नई दिल्ली . देश में फरवरी 2022 के दौरान एकीकृत भुगतान इंटरफेस (यूपीआई) के जरिये 8.27 लाख करोड़ रुपये (मूल्य के हिसाब से) का नकद रहित खुदरा लेनदेन हुआ. यह आंकड़ा इससे पिछले महीने की तुलना में थोड़ा कम है. भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (एनपीसीआई) ने मंगलवार को यह जानकारी दी.

एनपीसीआई के अनुसार फरवरी 2022 में यूपीआई के जरिये कुल 452 करोड़ (4.52 अरब) लेनदेन हुए. वही जनवरी 2022 के दौरान देश में भीम यूपीआई के जरिये नकद रहित खुदरा लेनदेन 8.32 लाख करोड़ रुपये का रहा था. इस दौरान यूपीआई के जरिये कुल 461 करोड़ लेनदेन हुए थे.

यह भी पढ़ें- Russia-Ukraine War : रूस-यूक्रेन युद्ध से भारत को होगा खरबों डॉलर का नुकसान, जानिए कहां व कितना हो रहा घाटा

आईएमपीएस से लेन-देन में कमी
एनपीसीआई ने बताया कि एनईटीसी फास्टैग तकनीक के जरिये टोल प्लाजा पर स्वचालित संग्रह में मूल्य के हिसाब से फरवरी 2022 में मामूली वृद्धि हुई है. इस दौरान 3,631.22 करोड़ रुपये के 24.36 करोड़ लेनदेन हुए. इसके अलावा तत्काल भुगतान सेवा (आईएमपीएस) के माध्यम से तत्काल धन हस्तांतरण पिछले महीने घटकर 3.84 लाख करोड़ रुपये रह गया, जो जनवरी में 3.87 लाख करोड़ रुपये था.

2021 में UPI के जरिए ट्रांजैक्शन
NIPL के सीईओ रितेश शुक्ला ने बयान में कहा, ‘‘हमें विश्वास है कि यह पहल एनआईपीएल की तकनीकी क्षमताओं और वैश्विक स्तर पर अपनी बेमिसाल पेशकश को बढ़ाने में मददगार होगी.’’ यूपीआई ने 2021 में 940 अरब डॉलर के 3,900 करोड़ वित्तीय लेनदेन को सक्षम किया, जो भारत के सकल घरेलू उत्पाद के लगभग 31 फीसदी के बराबर है.

यह भी पढ़ें- देश में बड़े अमीर लोगों की संख्या 2021 में भी तेजी से बढ़ी, अरबपतियों के मामले में भारत दुनिया में तीसरे नंबर पर

क्या होता है UPI?
UPI एक बैंकिंग सिस्टम है. इसकी मदद से पेमेंट ऐप पर पैसों के लेन-देन किए जा सकते हैं. यूपीआई की मदद से आप कहीं पर भी, किसी के भी अकाउंट में पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं. यूपीआई की मदद से पेमेंट के अलावा भी कई और काम किए जाते हैं. वर्तमान में आप BHIM, Phone Pay, Google Pay, Mobikwik, Paytm जैसे कई ऐप की मदद से UPI का इस्तेमाल कर सकते हैं.

मोबाइल से किसी दूसरे बैंक अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करने के लिए यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस या UPI का इस्तेमाल किया जाता है. यह ऐसा कॉन्सेप्ट है, जो कई बैंक अकाउंट को एक मोबाइल एप्लीकेशन के जरिये रकम ट्रांसफर करने की इजाजत देता है. इसे नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने विकसित किया है. इसका नियंत्रण रिजर्व बैंक और इंडियन बैंक एसोसिएशन के हाथ में है.

Tags: ATM transactions, Digital India, Digital payment, Digital Transaction in India, Upi

Leave a Comment

Your email address will not be published.