Ukraine Russia War Indian Embassy In Ukraine Shuts From Capital Kyiv Russian Missile Attack No Indians In City ANN

Indian Embassy in Ukraine: यूक्रेन की राजधानी कीव में रूसी हमले लगातार तेज होते जा रहे हैं. रूस लगातार चेतावनी दे रहा है कि वो कीव में बड़ा हमला कर सकता है. इसीलिए लगभग पूरी राजधानी को खाली किया जा रहा है. भारत सरकार की तरफ से भी बताया गया है कि, कीव में अब कोई भी भारतीय नागरिक मौजूद नहीं है. इतना ही नहीं सुरक्षा हालात को देखते हुए कीव का भारतीय दूतावास भी अब लगभग खाली कर दिया गया है. 

कैंप से चलेगा दूतावास का काम
भारत सरकार की तरफ से बताया गया है कि, ज्यादातर अधिकारी और स्टाफ अब कीव के कैंप ऑफिस में शिफ्ट कर दिए गए हैं. ऑपरेशन गंगा के तहत यूक्रेन से भारतीय नागरिकों को निकालने की कवायद अब इसी कैंप ऑफिस से चलेगी. बता दें कि यूक्रेन की राजधानी कीव में जो टीवी टावर हमले में ध्वस्त हुआ वो भारतीय दूतावास से महज़ डेढ़ किमी की दूरी पर है. रूस ने इस टीवी टावर को निशाना बनाकर तमाम चैनलों के प्रसारण को प्रभावित करने की कोशिश की है. इस हमले में पांच लोगों की मौत हो चुकी है. 

भारतीयों को निकालने के लिए मिशन गंगा 
भारत के अलावा अन्य देशों के दूतावास भी कीव से खाली किए जा रहे हैं. तमाम देशों ने भी अपने नागरिकों को निकाल लिया है, जो भी नागरिक बाकी हैं, उन्हें निकालने का प्रोसेस जारी है. भारत सरकार की तरफ से मिशन गंगा के तहत चार केंद्रीय मंत्रियों को यूक्रेन के पड़ोसी देशों में भेजा गया है, जहां से भारतीय छात्रों को एयरलिफ्ट किया जाएगा. क्योंकि यूक्रेन का एयरस्पेस युद्ध के चलते बंद है, ऐसे में लोगों को पड़ोसी देशों तक पहुंचाया जा रहा है. जहां से उन्हें वापस भारत लाया जाएगा. फिलहाल हजारों भारतीय अब भी यूक्रेन के अलग-अलग हिस्सों में फंसे हैं. 

बता दें कि यूक्रेन पर पिछले 6 दिन से रूस हमला कर रहा है. लगातार कीव और आसपास के शहरों पर बमबारी की जा रही है. उधर जमीनी स्तर पर भी रूसी सेना आगे बढ़ने की कोशिश में जुटी है. हालांकि यूक्रेन की सेना कड़ी टक्कर दे रही है. पिछले 6 दिन से यूक्रेन की सेना डटकर मुकाबला कर रही है. 

ये भी पढ़ें – 

Ukraine Russia War: रूस ने कीव में TV टावर को बनाया निशाना, 5 लोगों की मौत, कई टीवी चैनलों का प्रसारण प्रभावित

Ukraine Russia War: कीव से बाहर निकले छात्रों ने सुनाई आपबीती- ‘9 घंटे ट्रेन में खड़े रहकर किया सफर, 10-10 के ग्रुप में बंटना पड़ा’

Leave a Comment

Your email address will not be published.