Spending on non essential goods saw marginal fall in February Axis My India survey samp – फरवरी में गैर-जरूरी सामानों पर होने वाले खर्चों में आई गिरावट

नई दिल्ली. एक्सिस माई इंडिया (Axis My India) के कंज्यूमर सेंटीमेंट इंडेक्स (CSI) नाम के एक हालिया सर्वे में देश के शहरी और ग्रामीण परिवारों द्वारा जरूरी सामानों पर होने वाले खर्चों में वृद्धि देखी गई है. वहीं गैर जरूरी सामानों पर होने वाले खर्चों में कमी आई है. सर्वे रिपोर्ट के अनुसार, फरवरी माह में घरेलू उत्पादों, आवश्यक उत्पादों और स्वास्थ्य उत्पादों पर लोगों ने ज्यादा खर्च किया है.

सेंटीमेंट इंडेक्स ने पांच सब-सूचकांकों को मॉनिटर किया है- समग्र घरेलू खर्च, आवश्यक और गैर-आवश्यक वस्तुओं पर खर्च, स्वास्थ्य सेवा पर खर्च, मीडिया कंजब्शन हेबिट और मोबिलिटी ट्रेंड्स.

सेटीमेंट में यह गिरावट पिछले तीन महीनों से जरूरी और गैर-जरूरी दोनों कैटेगरी के सामानों पर होने वाले खर्च में कमी के चलते आई है. एक्सिस माई इंडिया ने अपनी रिपोर्ट में कहा, फरवरी में 54% परिवारों के कुल घरेलू खर्च में वृद्धि हुई, जो पिछले महीने की तुलना में 1% की वृद्धि को दर्शाता है. इसमें कहा गया है कि यह वृद्धि पूर्वी भारत के हिस्से में दर्ज की गई है.

ये भी पढ़ें: Russia-Ukraine War : रूस-यूक्रेन युद्ध से भारत को होगा खरबों डॉलर का नुकसान, जानिए कहां व कितना हो रहा घाटा

व्यक्तिगत देखभाल और घरेलू सामान जैसे आवश्यक उत्पादों पर खर्च में 43% परिवारों में वृद्धि हुई, जो जनवरी के स्तर के समान है. यह वृद्धि भारत के पश्चिमी भाग में प्रमुख रूप से देखी गई. हालांकि, आवश्यक वस्तुओं पर खर्च 38% परिवारों के लिए समान रहा.

कंज्यूमर सेंटीमेंट इंडेक्स (CSI) नाम के इस सर्वे के लिए 10,151 लोगों की राय ली गई है. इनमें से 70 फीसदी ग्रामीण पृष्ठभूमि के थे, जबकि 30 फीसदी शहरी क्षेत्र के थे. इसके अलावा, प्रतिभागियों में से 63% पुरुष थे जबकि 37% महिलाएं थीं. एक्सिस माई इंडिया हर महीने यह सर्वे कराती है.

इस बीच, गैर-जरूरी उत्पादों जैसे एयर कंडीशनर, कार और रेफ्रिजरेटर पर खर्च 8% परिवारों में वृद्धि देखी गई. जो पिछले महीने से 2% की मामूली गिरावट को दर्शाता है. इसके अतिरिक्त, सर्वेक्षण में शामिल 90% परिवारों ने कहा कि वे छुट्टियों, मॉल और रेस्तरां के दौरे पर खर्च कर रहे हैं. बढ़ी हुई यात्रा केवल 5% परिवारों में दिखाई देती है जबकि 5% ने कम गतिशीलता की सूचना दी.

Tags: Business news in hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published.