China Passes Law To Sinicize Islam And Make It Compatible With Socialism Pa | चीन ने इस्लाम को पापमुक्त करने के लिए कानून पारित किया, इसे समाजवाद के अनुकूल बनाइए: रिपोर्ट

चीन ने इस्लाम को पापमुक्त करने के लिए कानून पारित किया, इसे समाजवाद के अनुकूल बनाइए: रिपोर्ट



कम्युनिस्ट राष्ट्र में मुस्लिम जातीय अल्पसंख्यक आबादी को नियंत्रित करने और इसे प्रतिबंधित करने के लिए चीन ने एक नवीनतम कदम उठाया है. चीन ने एक कानून पारित किया है जिसका उद्देश्य अगले पांच वर्षों के भीतर इस्लाम को पापमुक्त (Sinicize) करना है. चीन के प्रमुख अंग्रेजी दैनिक ग्लोबल टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार शी जिनपिंग सरकार ने 8 इस्लामिक संघों के साथ बातचीत की और इस्लाम को समाजवाद के साथ संगत करने और धर्म को परिभाषित करने के उपायों को लागू करने की आवश्यकता पर एक आम सहमति बनाई.

इस्लाम का अभ्यास देश के विभिन्न हिस्सों में निषिद्ध है

बता दें कि चीन अल्पसंख्यकों पर दबाव बना रहा है और धार्मिक और राजनीतिक गतिविधियों की एक विस्तृत श्रृंखला पर अपना नियंत्रण मजबूत कर रहा है. इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार इस्लाम का अभ्यास देश के विभिन्न हिस्सों में निषिद्ध है. विश्वास समूह जो अतीत में स्वतंत्रता का आनंद ले चुके थे, का सामना अब चरित्रीकरण अभियान के साथ किया जा रहा है. अगर लोग प्रार्थना, उपवास, दाढ़ी बढ़ाना या हिजाब पहनते हैं तो गिरफ्तारी भी हो सकती है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार धर्म पर लगे प्रतिबंधों में इस्लामिक अपराधियों और मस्जिदों के गुंबदों को छीनना, धार्मिक स्कूलों और अरबी कक्षाओं पर प्रतिबंध लगाना और बच्चों को मुस्लिम गतिविधियों में भाग लेने से रोकना भी शामिल था.

युन्नान प्रांत में चीनी अधिकारियों ने तीन मस्जिदों को बंद कर दिया है

पिछले एक हफ्ते में ही युन्नान प्रांत में चीनी अधिकारियों ने हाशिए पर खड़ी मुस्लिम अल्पसंख्यक द्वारा स्थापित तीन मस्जिदों को बंद कर दिया है. संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, आधिकारिक तौर पर नास्तिक सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी को एक लाख से अधिक उइघुर मुसलमानों को एक आंतरिक शिविर में आयोजित करने के लिए जाना जाता है, जहां उन्हें इस्लाम को बदनाम करने और सरकार के प्रति निष्ठा की शपथ लेने के लिए मजबूर किया गया. चीन पर नैतिक सफाई का अभियान चलाने के अधिकार समूह द्वारा आरोप लगाया गया है. हालांकि, अंतर्राष्ट्रीय आक्रोश को धोखा बताते हुए और ऐसी सभी रिपोर्टों का खंडन करते हुए चीन ने दावा किया है कि देश अपने अल्पसंख्यकों के धर्म और संस्कृति की रक्षा करता है.

Leave a Comment

Your email address will not be published.