Russia Ukraine News: Will Vladimir Putin really be able to rule Ukraine? Know opinion of experts | क्या जंग जीतने के बाद भी यूक्रेन पर राज कर पाएंगे पुतिन? जानें, एक्सपर्ट्स की राय

Putin, Vladimir Putin, Vladimir, russia news,ukraine news, Russia Ukraine news- India TV Hindi
Image Source : AP FILE
Russia President Vladimir Putin.

Highlights

  • पुतिन को एक ऐसे देश पर शासन करना होगा, जिसे उन्होंने उसकी इच्छा के विरुद्ध फतह किया है।
  • शिक्षित और संपन्न यूक्रेनियन सत्ता के वितरण में असमानता के प्रति विशेष रूप से कम सहनशीलता रखते हैं।
  • सोवियत संघ के युग के दौरान यूक्रेनी राष्ट्रीय संस्कृति को दबा दिया गया था और रूस द्वारा उसे बदनाम किया गया था।

नई दिल्ली: एंटोन ओलेनिक, न्यूफाउंडलैंड मेमोरियल यूनिवर्सिटी, सेंट जोन्स, कनाडा, (द कन्वरसेशन): व्लादिमीर पुतिन द्वारा यूक्रेन पर हमला करने के बाद से रूसी आक्रमण के प्रति यूक्रेनी प्रतिरोध इतना भयंकर रहा है कि इस बारे में सवाल उठने लगे हैं कि अगर पुतिन सैन्य दृष्टि से युद्ध जीतने में सफल हो भी गए तो क्या वह यूक्रेन पर शासन कर पाएंगे। यह मानने के कई कारण हैं कि वह ऐसा नहीं कर पाएंगे। विजयी होने पर भी, पुतिन वह हासिल नहीं कर पाएंगे जो वह चाहते हैं क्योंकि पूरी तरह विजयी होने के लिए, उन्हें एक ऐसे देश पर शासन करना होगा, जिसे उन्होंने उसकी इच्छा के विरुद्ध फतह किया है।

कोई देश कितनी अच्छी तरह शासित होता है यह उसकी संस्कृति पर निर्भर करता है, अधिक सटीक रूप से, इस बात पर निर्भर करता है कि उसकी संस्कृति सरकार के मॉडल के साथ कितनी संगत है। अमेरिका के दिवंगत राजनीतिक वैज्ञानिक हैरी एकस्टीन, राजनीतिक संस्कृति के विशेषज्ञ, ने एक बार तर्क दिया था कि सरकारें अच्छा प्रदर्शन करती हैं यदि उनकी अधिकार पद्धति शासित समाज की अधिकार पद्धति के समान हों। स्थिर लोकतंत्रों में, परिवारों सहित सभी संगठनों में लोकतांत्रिक शासन के कुछ तत्व होते हैं। इसके विपरीत, निरंकुशता में, सत्ता सामाजिक संगठन के सभी स्तरों पर केंद्रीकृत होती है।

रूस में एक लोकप्रिय अवधारणा के अनुसार राष्ट्र के शासक से एक परिवार के पिता की तरह कार्य करने की अपेक्षा की जाती है। सत्ता दूरी मूल रूप से डच सामाजिक मनोवैज्ञानिक गीर्ट हॉफस्टेड द्वारा प्रस्तावित सत्ता दूरी की अवधारणा, यह मापने में मदद करती है कि सत्ता के वितरण में असमानता किस हद तक सामाजिक रूप से स्वीकार की जाती है। सत्ता दूरी इंडेक्स का मूल्य जितना बड़ा होता है, उतनी ही अधिक असमानता स्वीकार की जाती है, हालांकि हॉफस्टेड ज्यादातर कंपनियों के भीतर सत्ता के वितरण में रुचि रखते थे।

2015-16 में रूस और यूक्रेन में किए गए सत्ता की धारणा के एक गहन तुलनात्मक अध्ययन से पता चलता है कि यूक्रेनियन और रूसी सत्ता को अलग-अलग मानते हैं। रूस में 110.7 की तुलना में यूक्रेन में सत्ता दूरी सूचकांक का मूल्य 100.9 है। शिक्षित और संपन्न यूक्रेनियन सत्ता के वितरण में असमानता के प्रति विशेष रूप से कम सहनशीलता रखते हैं। यूक्रेन में पुतिन का संभावित शासन इसलिए समस्याग्रस्त है क्योंकि यह सत्ता के उस मॉडल से मेल नहीं खाएगा जिसे यूक्रेनियन स्वीकार करना चाहते हैं। निरंकुश सत्ता पर संदेह और अस्वीकृति यूक्रेनी संस्कृति में गहराई से निहित है।

कोसैक का प्रभाव यूक्रेन के सबसे प्रसिद्ध इतिहासकार, मायखाइलो ह्रुशेव्स्की, 15वीं और 16वीं शताब्दी के कोसैक को आधुनिक यूक्रेन के पूर्ववर्ती मानते हैं। कोसैक (तातारों के हमलों से बचने के लिए पोलिश और रूसी सरकारों द्वारा भाड़े पर लिए गए सीमा मिलिशिया) के बारे में मशहूर था कि वह पोल्स, तातार और रूसियों सहित किसी भी शासक के लिए परेशानी पैदा कर सकते थे। ह्रुशेव्स्की ने कोसैक्स को ‘किसी का कोई अधिकार नहीं मानने वाले’ लोगों के रूप में वर्णित किया। यहां तक कि पोल्स, जिनकी केंद्रीकृत शक्ति की अवधारणा के साथ अपनी समस्याएं थीं, ने कोसैक्स को ‘अनियंत्रित’ कहा।

कोसैक के सैन्य नेता को चुना जाता था और आसानी से बदला भी जा सकता था। एक सैन्य नुकसान के बाद, कोसैक आमतौर पर इकट्ठा होते थे और एक नया नेता चुनते थे। उनमें से किसी के पास स्थायी रूप से सत्ता नहीं होती थी। क्या कोसैक विरासत अभी भी यूक्रेन की संस्कृति को प्रभावित करती है, कम से कम जहां तक सत्ता की धारणा और इसे रखने वालों का संबंध है? यूक्रेनी सेना अपने रूसी आक्रमणकारियों के खिलाफ जो उग्र प्रतिरोध दिखा रही है, उसका सुझाव है कि ऐसा हो सकता है।

सोवियत संघ के युग के दौरान यूक्रेनी राष्ट्रीय संस्कृति को दबा दिया गया था और रूस द्वारा उसे बदनाम किया गया था। यह पुतिन के आरोपों की व्याख्या कर सकता है कि यूक्रेनियन पर ‘राष्ट्रवादियों और नव-नाजियों’ का शासन है। पुतिन की शासन शैली को दोहराने के पूर्व यूक्रेनी राष्ट्रपति के प्रयासों के खिलाफ 2013-14 में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन के दौरान कोसैक संस्कृति के तत्वों को पुनर्जीवित किया गया था। प्रदर्शनकारियों ने कोसैक सैन्य शिविरों की संगठनात्मक और स्थानिक पद्धति की तर्ज पर कीव के केंद्र में अपने तम्बू शिविर का आयोजन किया था।

युद्ध राष्ट्र बनाता है युद्ध अक्सर राष्ट्र की चेतना के पुनरुद्धार के लिए एक ट्रिगर का काम करता है। ब्रिटिश ऐतिहासिक समाजशास्त्री एंथनी डी. स्मिथ, राष्ट्रों और राष्ट्रवाद के जानकार, जिनकी 2016 में मृत्यु हो गई, ने लिखा कि युद्ध ‘इतिहास की हर अवधि में राष्ट्रों और जातीय समुदायों दोनों के निर्माण में सबसे शक्तिशाली कारकों में से एक है।’ पूर्वी यूक्रेन और क्रीमिया में 2014-15 के सैन्य टकराव का ठीक यही प्रभाव था। पुतिन द्वारा छेड़ा गया आज का पूर्ण युद्ध शायद ही कोई अपवाद हो।

यह संभवतः हालात को एक ऐसे परिणाम की तरफ ले जाएगा, जिसकी पुतिन ने कल्पना भी नहीं की होगी, यूक्रेनियन द्वारा निरंकुश शासन की अस्वीकृति। यदि कोई यूक्रेन और रूस को अराजकता से निरंकुशता की निरंतरता पर रखता है, तो यूक्रेन अराजकता के करीब होगा जबकि रूस निरंकुशता के। रूस हमेशा से एक शक्ति-केंद्रित समाज रहा है, जहां सभी महत्वपूर्ण निर्णय कुछ लोगों द्वारा या आदर्श रूप से किसी एक के द्वारा लिए जाने की अपेक्षा की जाती है। रूसी संस्कृति में निहित शक्ति की धारणा के साथ पुतिन के शासन का संरेखण इसकी अनुकरणीय स्थिरता की व्याख्या करता है, कम से कम अब तक।

कई रूसी शहरों में यूक्रेन पर आक्रमण के खिलाफ बड़े पैमाने पर विरोध बढ़ते असंतोष की तरफ इशारा करते हैं। बहरहाल, रूस और यूक्रेन लगभग पूर्ण विपरीत प्रतीत होते हैं, इस संभावना को कम करते हुए कि यूक्रेन पर पुतिन का रूस दोस्ताना तरीके से शासन कर पाएगा, भले ही वह युद्ध जीत जाए। यूक्रेन में युद्ध इस बात की पुष्टि करता है कि रूस के लिए सत्ता का मतलब बल है। पुतिन के लिए उस मानसिकता को यूक्रेनियन में स्थानांतरित करना असंभव नहीं तो बहुत मुश्किल काम होगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published.