Know how will metaverse increase data usage by 20 times in next 10 years screen time reliance jio airtel kcnd

नई दिल्ली. दुनियाभर में डिजिटलीकरण (Digitalization) के चलते तेजी से बदलाव हो रहा है. इसमें मेटावर्स (Metaverse) की भूमिका बढ़ा रही है. मेटावर्स की वजह से डिजिटल इकोसिस्‍टम (Digital Ecosystem) में तेज बदलाव के कारण 2032 तक यानी अगले 10 साल में दुनियाभर में डाटा का इस्तेमाल (Data Usage) 20 गुना तक बढ़ जाएगा.

क्रेडिट सुइस ने एक रिपोर्ट (Credit Suisse Report) में कहा कि मेटावर्स में स्मार्टफोन (Smartphone), टेलीविजन या वीडियो गेम कंसोल (Video Game Consoles) जैसे उपकरणों के इस्तेमाल में लगने वाला समय और बैंडविड्थ (डाटा ट्रांसफर की अधिकतम दर) की खपत बढ़ाने की काफी संभावनाएं हैं. इंटरनेट ट्रैफिक का प्रवाह पहले से ही वीडियो में 80 फीसदी है, जो 30 फीसदी की सालाना दर से बढ़ रहा है. अनुमान है कि मामूली मेटावर्स का इस्तेमाल भी अगले 10 साल में डाटा इस्तेमाल को 20 गुना तक बढ़ा सकता है. इससे सबसे ज्यादा लाभ टेलिकॉम कंपनी रिलायंस जियो और एयरटेल (Reliance Jio and Airtel) को होगा.

ये भी पढ़ें – ABG Shipyard Scam: एक समय कंपनी को लोन देने के लिए लगती थी बैंकों की लाइन

5जी से मिलेगी मदद

रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में जब 5जी नेटवर्क सेवाओं (5G Network Services) को लॉन्च किया जाएगा तो मेटावर्स को काफी मदद मिलेगी. इसमें 6जी (6G Network) आने के बाद तेजी आएगी. इसमें कहा गया है कि मेटावर्स का शुरुआती दिनों में सबसे ज्यादा असर गेमिंग उद्योग (Gaming Industry) पर दिख सकता है. भारत में गेमिंग अभी शुरुआती चरण में है, जिसमें मेटावर्स के बाद बेतहाशा बढ़ोतरी की उम्मीद है.

ये भी पढ़ें- Job Alert! : फ्रेशर्स के लिए नौकरियों की बहारअगले महीने तक IT Companies करेंगी लाखों भर्तियांजानें पूरी डिटेल

बढ़ जाएगा स्क्रीन टाइम

भारत हर दिन मोबाइल पर ज्यादा समय बिताने वाले देशों में शामिल है. मेटावर्स के आने के बाद भारतीयों का स्क्रीन टाइम (Screen Time) पहले से ज्यादा बढ़ जाएगा. इसका असर दूरसंचार कंपनियों की कमाई (Income of Telecom Companies) पर भी पड़ेगा. इससे जियो और भारती एयरटेल (17 फीसदी कमाई फिक्स्ड लाइन से) को सबसे ज्यादा लाभ होगा. भारत में फिक्स्ड ब्रॉडबैंड (Broadband) का इस्तेमाल करने वाले तेजी से बढ़ रहे हैं. साल 2019-20 में फिक्स्ड ब्रॉडबैंड उपभोक्ता 6.8 फीसदी थे, जो 2021-22 में बढ़कर 9 फीसदी तक पहुंच जाएंगे. साल 2024-25 तक यह आंकड़ा 12.60 फीसदी के पार पहुंच जाएगा.

ये भी पढ़ें- Real Estate : मकान खरीदने के लिए अब ज्यादा ढीली करनी पड़ेगी जेबजानिए आपके शहर में कितने बढ़े दाम

क्या है मेटावर्स

-यह एक 3डी वर्चुअल रियलिटी (3D Virtual Reality) है. यह ऑग्युमेंटड रियलिटी और वर्चुअल रियलिटी पर आधारित है.
-इस तकनीक की मदद से कोई व्यक्ति पूरी तरह वर्चुअल दुनिया में प्रवेश कर सकता है और उसे वर्चुअल दुनिया ही सच लगने लगती है.
-मेटावर्स की मदद से वर्चुअल दुनिया (Virtual World) में वह सबकुछ अनुभव कर सकते हैं, जिसे आप सच में करना चाहते हैं.
-इसकी मदद से वर्चुअल दुनिया में आप अपने दोस्त के साथ चाय-कॉफी पी सकते हैं, जो आपसे हजारों किलोमीटर दूर हैं.
-इसे सोशल मीडिया का भविष्य कहा जाता है. पिछले दिनों फेसबुक (Facebook) ने अपना नाम बदलकर मेटा (Meta) रखा है.

Tags: 5G network, Airtel, Reliance Jio

Leave a Comment

Your email address will not be published.