Fathers last advice to indian student who died in ukraine kharkiv

नई दिल्ली: यूक्रेन में रूस (Ukraine-Russia War) की भीषण गोलाबारी के कारण एक कर्नाटक के रहने वाले एक भारतीय छात्र (Indian Student) की मौत हो गई. नवीन शेखरप्पा की परिवार के साथ हुई आखिरी बातचीत में परिजनों ने उसे बिल्डिंग के बाहर भारतीय झंडा (Indian Flag) लगाने का सुझाव दिया था, जहां वह रूका हुआ था. बताया जा रहा है कि केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने भी इस तरह का सुझाव दिया था. जिन्होंने कहा था कि रूस और यूक्रेन दोनों देशों ने युद्ध के दौरान भारतीय छात्रों की सुरक्षा का आश्वासन दिया था.

कर्नाटक के रहने वाले 21 वर्षीय नवीन शेखरप्पा की यूक्रेन के खारकीव में रूस की भीषण गोलबारी में मौत हो गई. नवीन के दोस्त ने बताया कि वह घर के बाहर स्थित एक ग्रॉसरी स्टोर पर खाना लेने के लिए गया था. नवीन के दादा ने बताया कि, हमने केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल से बात की थी. उन्होंने कहा कि थोड़ी परेशानी है. अगर हम वहां से निकलने की कोशिश करें तो बचाव संभव है. उन्होंने कहा था कि हमारी सरकार ने दोनों देशों से बात की है और रूस व यूक्रेन ने उन्हें आश्वासन दिया है कि वहां रहने वाले भारतीयों को कुछ नहीं होगा.

वहीं नवीन के पिता ने बताया कि, केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने भी यह बात कही थी कि अगर आपके पास भारतीय झंडा है, तो इसे भवन पर लगाएं. जहां आप रह रहे हैं उस बिल्डिंग के बाहर तिरंगा दिखाएं. उन्होंने कहा था कि आप लोगों को जितना संभव हो सके झंडा दिखाना चाहिए.

हालात नरक जैसे थे, सीमा पार करने के लिए भीख मांग रहे थे; यूक्रेन से दिल्ली पहुंचे छात्र ने सुनाई आपबीती

बताया जा रहा है कि नवीन और अन्य भारतीय छात्रों ने एक बंकर में शरण ली हुई थी और वहां से सिर्फ 2 फीसदी लोग ही निकल पा रहे थे. नवीन ने अपने पिता को बताया था कि हालात बेहद खराब है इसलिए वह वहां से नहीं निकल पाया.

फाइनल ईयर के मेडिकल स्टूडेंट्स नवीन को सूचना मिली थी कि अब ट्रेनें चलने लगी हैं और सुबह 6 बजे, 10 बजे और दोपहर 1 बजे ट्रेन है. उसके पिता ने सुझाव दिया था कि, वहां के हालात को देखकर ही कोई फैसला लें. अगर 40-50 किलोमीटर बाहर निकलोगे तो कोई रास्ता निकलेगा. लेकिन बिना किसी मदद के यह जोखिम मत उठाना.

मंगलवार को विदेश मंत्रालय ने छात्रों को यू्क्रेन की राजधानी कीव से बाहर निकलने और पश्चिमी यूक्रेन के किसी भी सीमावर्ती शहर में जाने की सलाह दी है. लेकिन कई वीडियो मैसेज में छात्र यह कहते हुए नजर आए कि उन्हें ट्रेनों में चढ़ने की अनुमति नहीं दी जा रही है, उनके साथ मारपीट की गई और उन्हें ट्रेन से बाहर कर दिया जाता है.

Tags: PM Modi, Russia, Ukraine

Leave a Comment

Your email address will not be published.