कहीं आप तो नहीं हो रहे हैं प्रीडायबिटीज से ग्रस्त, पहचानें इन शुरुआती संकेतों से…

Signs of Prediabetes: दुनिया भर में डायबिटीज (Diabetes) के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. टाइप 2 डायबिटीज जीवनभर चलने वाली एक क्रोनिक कंडीशन है, जिसे सही तरीके से मैनेज ना किया जाए, तो कई अन्य शारीरिक समस्याओं का कारण बन सकता है. डायबिटीज की बीमारी आज मोटापा, खराब जीवनशैली, एक्सरसाइज की कमी, खराब खानपान के कारण अधिक हो रही है. एक बार डायबिटीज हो जाए, तो इसे सिर्फ शुगर लेवल (Blood Sugar level) को कंट्रोल करके ही उम्र भर मैनेज किया जा सकता है. ऐसा इसलिए क्योंकि इसका कोई इलाज नहीं है. हालांकि, प्रीडायबिटीज के लक्षणों (Symptoms of Prediabetes) को पहचानकर डायबिटीज के जल्दी बढ़ने को काफी हद तक रोक सकते हैं.

क्या है प्रीडायबिटीज

टीओआई की खबर के अनुसार, प्रीडायबिटीज या बॉर्डलाइन डायबिटीज वह कंडीशन है, जो टाइप 2 डायबिटीज होने से पहले विकसित होता है. प्रीडायबिटीज होने पर रक्त शर्करा का स्तर सामान्य से अधिक होता है, लेकिन इतना अधिक नहीं होता कि उसे डायबिटीज कहा जा सके. इस स्थिति में भी पैन्क्रियाज पर्याप्त इंसुलिन का निर्माण करता है, लेकिन रक्तप्रवाह से अतिरिक्त शर्करा को हटाने में कम प्रभावी होता है, जिससे ब्लड शुगर लेवल में वृद्धि होती है. डायबिटीज और प्रीडायबिटीज दोनों ही बीमारियां शरीर द्वारा उत्पादित होने वाले प्राकृतिक हार्मोन इंसुलिन के कारण होती है. ब्लड शुगर लेवल तब बढ़ जाता है, जब शरीर पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन नहीं बनाती है या इंसुलिन के प्रति प्रतिक्रिया नहीं करती है. हाई ब्लड शुगर लेवल होने से प्रीडायबिटीज और आगे चलकर डायबिटीज में तब्दील हो जाता है.

इसे भी पढ़ें: ओवर एक्‍सरसाइज और भूखे रहने की आदत जानलेवा, लो ब्‍लड शुगर पर डॉक्‍टर ने दी चेतावनी

प्रीडायबिटीज के संकेत और लक्षण

  • शरीर के किसी खास भाग की त्वचा का डार्क होना जैसे कोहनी, घुटना, गर्दन, अंडरआर्म्स आदि.
  • अधिक थकान महसूस करना.
  • बिना किसी कारण के अचानक वजन बढ़ना या कम होने लगना.
  • चिड़चिड़ापन और चक्कर आना.

प्रीडायबिटीज के जोखिम कारक

  • परिवार में टाइप 2 डायबिटीज होना
  • हाई ब्लड प्रेशर, हाई कोलेस्ट्रॉल
  • शारीरिक रूप से एक्टिव ना रहना
  • हार्ट डिजीज या स्ट्रोक की समस्या
  • मोटापा और पीसीओएस
  • जेस्टेशनल डायबिटीज

इसे भी पढ़ें: Diabetes Home Remedies: डायबिटीज को कंट्रोल करने में मदद करेंगे आयुर्वेद के ये नुस्खे

डायबिटीज से बचाव के उपाय

यदि आप प्रीडायबिटीज से ग्रस्त हो गए, तो जीवनशैली, खानपान की आदतों में बिना बदलाव किए डायबिटीज से नहीं बच सकते हैं. टाइप 2 डायबिटीज होने पर स्ट्रोक, किडनी रोग, दिल संबंधित बीमारियों के होने का खतरा भी बढ़ जाता है. हेल्दी खानपान, प्रतिदिन 30 मिनट एक्सरसाइज करने, वजन कंट्रोल करने, ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल लेवल कम करने, एल्कोहल और धूम्रपान ना करना, लो सैचुरेटेड फैट्स युक्त डाइट का सेवन, फ्रोजन और प्रॉसेस्ड फूड्स से दूरी बनाकर प्रीडायबिटीज और डायबिटीज के होने की संभावनाओं को कम कर सकते हैं.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

Leave a Comment

Your email address will not be published.